Lakhimpur case:पलिया गांव पहुंचकर राहुल-प्रियंका ने की पीड़ित परिवार से मुलाकात..After reaching Palia village, Rahul-Priyanka met the victim’s family.

Spread the love


highlights

  • लंबे टकराव के बाद मिली थी मृतकों के गांव जाने की अनुमति 
  •  पिड़ित परिवार का बंधाया ढांढस..बोले कांग्रेस पार्टी है आपके साथ 
  • राजनीति का अखाड़ा बना उत्तर प्रदेश का लखीमपुर खीरी

नई दिल्ली :

लखीमपुर खीरी इन दिनों सियासी अखाड़ा बना हुआ है.. हर विपक्षी पार्टी का नेता वहां जाना चाहता है. फिलहाल कांग्रेस नेता राहुल गांधी व प्रियंका गांधी वाड्रा ने गांव पलिया पहुंचकर पीड़ित परिवार का ढांढस बंधाया. राहुल गांधी ने कहा कि मैं और पूरी कांग्रेस पार्टी आपके साथ हर संभव खड़ी है. उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी ने मृतकों के परिवारों को हर संभव मदद का भरोसा दिया. राहुल गांधी के साथ पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी साथ रहे. यहां से मिलने के बाद दोनों नेताओं ने निघासन में मृतक पत्रकार के परिजनों से भी मुलाकात की. राजनीतिक पंडितों का मानना है कि यह घटना सियासी भूचाल लाने के लिए काफी है. 

पीड़ित परिवार से मिलने के बाद राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि शहीद लवप्रीत के परिवार से मिलकर दुख बांटा, लेकिन जब तक न्याय नहीं मिलेगा, तब तक ये सत्याग्रह चलता रहेगा. तुम्हारा बलिदान भूलेंगे नहीं, लवप्रीत. साथ ही उन्होंने अपने ट्वीट में हैशटैग #लखीमपुर_खीरी भी लिखा है. वहीं, प्रियंका गाधी ने कहा कि मंत्री अजय मिश्रा का इस्तीफा और उनके बेटे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी के बाद ही इंसाफ पूरा होगा. अभी तक आरोपियों की गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई?

लंबे टकराव के बाद मिली अनुमति 

लंबे टकराव के बाद आखिरकार योगी सरकार ने राहुल और प्रियंका गांधी समेत पांच कांग्रेस नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने की इजाजत दे दी थी ..कांग्रेस नेता लखीमपुर खीरी हिंसा के पीड़ित दो परिवारों से मिल सकेंगे.. फिलहाल वे मृतक लवप्रीत से मिल रहें हैं.. राहुल और प्रियंका के साथ भूपेश बघेल, चरणजीत सिंह चन्नी और एक अन्य नेता लखीमपुर खीरी पहुंचे हैं.. दरअसल, .योगी सरकार ने सभी दलों के 5-5 लोगों को पीड़ित परिवारों से मिलने की अनुमति दी है.

सचिन पायलट को मुरादाबाद रोका 

आज कांग्रेस के फायर ब्रांड नेता व राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री को मुरादाबाद टोल प्लाजा पर रोक लिया गया.. पुलिस उन्हे मेरठ में ही हिरासत में लेना चाहती थी.. लेकिन पायलट पुलिस को चकमा देकर निकल गए. इसके बाद उनका कई जगह कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत भी किया.. मुरादाबाद मूंढापांडे टोल प्लाजा उनको पुलिस घेराबंदी कर रोक लिया.



संबंधित लेख





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.