Now the admissions from 9th to 12th will be done till October 15, there will be full years from 1st to 8th | अब 9वीं से 12वीं तक प्रवेश 15 अक्टूबर तक होंगे, पहली से 8वीं के पूरे साल होंगे

Spread the love


प्रतापगढ़2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • विभाग ने नामांकन और बढ़ाने के लिए प्रवेश की अंतिम तिथि बढ़ाई

जिले में अब कक्षा 9वीं से 12वीं तक के एडमिशन 15 अक्टूबर तक होंगे। पहले इसकी तिथि 30 सितंबर तक थी। विभाग ने प्रदेश के सरकारी स्कूलों में नामांकन बढ़ाने के साथ ही अनामांकित और ड्राप आउट बच्चों को स्कूली शिक्षा से जोड़ने के लिए शिक्षा विभाग जुटा हुआ है।

इसके तहत शिक्षा से वंचित विद्यार्थियों को चिह्नित करके उन्हें स्कूली शिक्षा से जोड़ने के निर्देश विभाग ने शिक्षा अधिकारियों को दिए हैं। प्रवेशोत्सव के तहत विभाग का फोकस अब कक्षा 9 से लेकर 12 वीं तक की कक्षाओं में नामांकन बढ़ाने के साथ ही इन कक्षाओं की स्कूली शिक्षा से वंचित विद्यार्थियों को स्कूल से जोड़ने पर है।

ऐसे में शिक्षा विभाग ने कक्षा 9 से 12 तक के लिए प्रवेश की तिथि बढ़ा दी है। इन कक्षाओं के लिए अब 15 अक्टूबर तक प्रवेश हो सकेंगे। माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी ने इस संबंध में आदेश जारी किए है। इसके साथ ही शिक्षा अधिकार कानून के तहत कक्षा एक से आठ तक के प्रवेश सत्र पर्यन्त हो सकेंगे।

शिक्षक अभिभावकों को दे रहे रिश्तेदारी का वास्ता

सरकारी स्कूलों के शिक्षक इन दिनों नामांकन बढ़ाने के प्रयासों में जुटे हुए हैं। कई शिक्षक अभिभावकों के पास जाकर रिश्तेदारी का वास्ता दे रहें हैं, तो कोई स्कूल में अच्छी पढ़ाई का भरोसा दिला रहा है। गौरतलब है कि इन दिनों सरकारी विद्यालयों के शिक्षकों पर नामांकन बढ़ाने के लिए विभाग के निर्देश हैं। शिक्षक अभिभावकों के डोर टू डोर जाकर संपर्क में जुटे हुए हैं, लेकिन ग्राम व ढाणी स्तर पर प्राइवेट स्कूल खुलने के कारण शिक्षकों को प्रवेश के लक्ष्य पाने में पसीने आ रहे हैं।

ज्यादा से ज्यादा नामांकन के प्रयास कर रहे : डीईओ : डीईओ माध्यमिक वसुमित्र सोनी का कहना है कि सरकारी स्कूलों में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों की संख्या में इजाफा हो रहा है इसे देखते हुए प्रवेश की अंतिम तिथि को 15 अक्टूबर तक बढ़ाया गया है। इस कार्यक्रम में अधिक से अधिक नामांकन बढ़ाने के शिक्षक प्रयास कर रहे हैं।

कोरोना काल में नामांकन बढ़ाने में दिक्कतें आ रही हैं। ऐसे में हर कोई सोशल मीडिया का सहारा ले रहा है। सोशल मीडिया से अपने स्कूलों की विशेषताओं के बारे में जागरूक कर रहे हैं। इसमें निजी स्कूल ही नहीं सरकारी स्कूलों के शिक्षक भी पीछे नहीं है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.